Windows Live Messenger

शुक्रवार, 25 मई 2012

omshri Radhe Radhe: माँ तो प्रकृति की हर संपदा में विधमान हैं ,,,,    ...

omshri Radhe Radhe: माँ तो प्रकृति की हर संपदा में विधमान हैं ,,,,    ...: माँ तो प्रकृति की हर संपदा में विधमान हैं ,,,,             तू और मैं बस न जाने क्यों दूसरों कि बातो में ,                      अपने...

माँ तो प्रकृति की हर संपदा में विधमान हैं ,,,,

            तू और मैं बस न जाने क्यों दूसरों कि बातो में ,
                     अपने ही हाथो से अपने ही घर को खोदने लगते हैं 
         हम सोचते हैं कौन हैं हमे देखने वाला हमे रोकने वाला माँ 
                    माँ तो दुनिया छोडकर चली गई पर भाई माँ हैं ...
          प्रकृति की हर संपदा में विधमान हैं ..भाई माँ  माँ हैं वो 
                      आज भी कल भी होगी क्योकि वो माँ हैं माँ 
                         वो सिर्फ देना जानती हैं माँ को जानो तब ही 
                                     प्रकृति को भी जान पाओ गे माँ तुम हो न 
            

बुधवार, 9 मई 2012

ईश्वर है 

ॐ  जय  श्री  राधे  कृष्ण /जीवन में इंसान भटकता ही रहता हैं,
 जिसप्रकार कस्तूरी हिरन की नाभि में रहती है और वह उसे ,
जंगल जंगल खोजता फिरता है ,उसीप्रकार हम भी आत्मा में 

विराजमान परमात्मा को जगह जगह तलासते है,,, ....,,,,,,,

राधे राधे बोल ,,,,,,,,